हॉस्टल का खाना खाकर एक साथ 30 छात्राएं हुईं बीमार, अस्पताल में मिले CM साहा

Image Source : REPRESENTATIVE IMAGE प्रतीकात्मक फोटो त्रिपुरा के एक हॉस्टल में एक साथ कई छात्राओं की तबीयत बिगड़ने का मामला सामने आया है। दरअसल, पश्चिम त्रिपुरा जिले के एक गैर-सरकारी संगठन (NGO) द्वारा संचालित हॉस्टल में गुरुवार को भोजन करने के बाद कम से कम 30 छात्राएं बीमार हो गईं। पश्चिम त्रिपुरा के जिलाधिकारी विशाल कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि राज्य सरकार ने बोधजंग उच्चतर माध्यमिक विद्यालय और महारानी तुलसीबाटी स्कूल की छात्राओं के दूषित भोजन खाने से तबीयत बिगड़ने की घटना की जांच के आदेश दिए।  पेट दर्द की शिकायत की दोनों सरकारी स्कूलों की छात्राएं इंदिरानगर क्षेत्र में एनजीओ द्वारा संचालित छात्रावास में रहती थीं और अपने-अपने संस्थानों में जाने से पहले भोजन करती थीं। पश्चिम त्रिपुरा के जिलाधिकारी ने बताया कि सबसे पहले दो लड़कियों ने पेट दर्द की शिकायत की और जल्द ही अन्य छात्राओं ने भी यही शिकायत की। छात्राओं को जी.बी.पी. अस्पताल ले जाया गया। उन्होंने कहा कि छात्रावास से जांच के लिए भोजन के सैंपल एकत्र किए गए हैं। छात्राओं से मिले CM उन्होंने कहा कि यदि छात्रावास अधिकारियों द्वारा छात्राओं को परोसे गए भोजन में कुछ भी प्रतिकूल पाया जाता है, तो हम उचित कदम उठाएंगे। छात्राओं की हालत स्थिर बताई गई है। मुख्यमंत्री माणिक साहा ने कहा कि यह भोजन विषाक्तता का मामला प्रतीत होता है। साहा ने अस्पताल में छात्राओं से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने कहा कि छात्राओं की हालत स्थिर है। सरकार ने आवश्यक कदम उठाने के लिए घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं। (भाषा) ये भी पढ़ें-   Latest India News Source link

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को मिली जमानत, राउज़ एवेन्यू कोर्ट ने दी राहत

Image Source : PTI दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल दिल्ली शराब घोटाला मामले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल को बड़ी राहत मिली है। दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल को जमानत दे दी है। जानकारी के मुताबिक, केजरीवाल को ये जमानत 1 लाख रुपये के बेल बांड पर मिली है। कल बाहर आ सकते हैं केजरीवाल इससे पहले 19 जून को अरविंद केजरीवाल की नियमित जमानत याचिका पर कोर्ट ने उनकी मांग खारिज कर दी थी। राऊज एवेन्य कोर्ट ने सुनवाई के बाद अरविंद केजरीवाल की हिरासत तीन जुलाई तक बढ़ा दी थी। हालांकि, आज गुरुवार 20 जून को कोर्ट ने केजरीवाल को राहत दे दी और 1 लाख के मुचलके पर जमानत दे दी। जानकारी के मुताबिक, केजरीवाल शुक्रवार को तिहाड़ जेल से बाहर आ सकते हैं।  दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद जमानत जानकारी के मुताबिक, विशेष न्यायाधीश न्याय बिंदु ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का आग्रह भी खारिज कर दिया जिसमें अरविंद केजरीवाल के जमानत आदेश पर 48 घंटे के लिए रोक लगाने का अनुरोध किया गया था। न्यायाधीश ने नियमित जमानत के लिए केजरीवाल द्वारा दायर किये गये आवेदन पर अभियोजन एवं बचाव पक्षों की दलीलें सुनने के बाद यह आदेश दिया।  AAP ने क्या रहा? दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को जमानत मिलने के बाद आम आदमी पार्टी नेताओं में खुशी की लहर दौड़ गई है। दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने केजरीवाल को जमानत मिलने के बाद X पर ट्वीट किया और लिखा कि सत्यमेव जयते। माना जा रहा है कि जल्द ही केजरीवाल जेल से बाहर आ सकते हैं।  ये भी पढ़ें- कौन हैं भर्तृहरि महताब? जिन्हें राष्ट्रपति ने बनाया लोकसभा का प्रोटेम स्पीकर नीट विवाद में राहुल गांधी पर भड़की भाजपा, दिलाई राजस्थान में पेपर लीक की याद Latest India News Source link

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का 66वां जन्मदिन आज, PM मोदी ने एक्स पर किया पोस्ट, जानें क्या लिखा

Image Source : X- @NARENDRAMODI प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को उनके जन्मदिन पर बधाई देते हुए उनकी अच्छी सेहत और लंबे जीवन की कामना की है। पीएम मोदी ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर लिखा, ”राष्ट्रपति जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं। हमारे राष्ट्र के प्रति उनकी अनुकरणीय सेवा और समर्पण हम सभी को प्रेरित करता है। उनकी बुद्धिमत्ता और गरीबों और हाशिए पर पड़े लोगों की सेवा करने पर जोर एक मजबूत मार्गदर्शक शक्ति है। उनकी जीवन यात्रा करोड़ों लोगों को उम्मीद देती है। भारत उनके अथक प्रयासों और दूरदर्शी नेतृत्व के लिए हमेशा उनका आभारी रहेगा। उन्हें दीर्घायु और स्वस्थ जीवन का आशीर्वाद मिले।” CM योगी आदित्यनाथ ने दी बधाई यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को उनके जन्मदिन पर बधाई दी। आदित्यनाथ पर सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर लिखा, ”जनसेवा, राष्ट्र सेवा और समाज के प्रत्येक वर्ग के कल्याण के लिए सतत समर्पित माननीय राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई! भगवान श्री जगन्नाथ जी से आपके सुदीर्घ व सुयशपूर्ण जीवन और उत्तम स्वास्थ्य की प्रार्थना है।” जानें राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के बारे में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के उपरबेड़ा गांव में एक संथाली आदिवासी परिवार में हुआ था। उन्होंने 25 जुलाई 2022 को राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी। इससे पहले वह झारखंड की राज्यपाल थीं। मुर्मू का प्रारंभिक जीवन कठिनाइयों और संघर्षों से भरा रहा। गांव के स्कूल से प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद मुर्मू आगे की पढ़ाई के लिए भुवनेश्वर गईं। उन्होंने रमादेवी महिला महाविद्यालय, भुवनेश्वर से कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की। वे अपने गांव से कॉलेज जाने वाली प्रथम बालिका बनीं। यह भी पढ़ें- PM मोदी की इटली यात्रा से कांग्रेस क्यों नाराज, अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला बना वजह? अब सच आएगा सामने जेल में बंद खालिस्तानी नेता अमृतपाल सिंह की हिरासत एक साल के लिए बढ़ाई गई, निर्दलीय जीत चुका है लोकसभा चुनाव Latest India News Source link

झारखंड: कैबिनेट ने सीएम, एमएलए और मंत्रियों के वेतन पर लिया बड़ा फैसला, 50 फीसदी तक की बढ़ोतरी को दी मंजूरी

Image Source : FILE झारखंड के मुख्यमंत्री चंपई सोरेन झारखंड सरकार ने बुधवार को मुख्यमंत्री, नेता प्रतिपक्ष, विधानसभा अध्यक्ष, मंत्रियों और विधायकों के वेतन और अन्य भत्तों में 50 फीसदी तक की बढ़ोतरी के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। विधायकों को अधिकतम 50 फीसदी वेतन वृद्धि मिलेगी, जबकि मुख्यमंत्री और मंत्रियों को क्रमश: लगभग 25 फीसदी और 31 फीसदी की बढ़ोतरी मिलेगी। मुख्यमंत्री चंपई सोरेन की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक के दौरान यह मंजूरी दी गई। कैबिनेट सचिव वंदना दादेल ने निर्णय की पुष्टि करते हुए कहा, “कैबिनेट ने विधायकों, मंत्रियों, अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष, मुख्यमंत्री और विधानसभा अधिकारियों के वेतन, भत्ते और अन्य भत्तों में बढ़ोतरी को मंजूरी दे दी है।”  कितना बढ़ाया किसका वेतन  मुख्यमंत्री का मूल वेतन 80,000 रुपये प्रतिमाह से बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दिया गया है, जबकि मंत्रियों का वेतन 65,000 रुपये से बढ़ाकर 85,000 रुपये और विधायकों का वेतन 40,000 रुपये से बढ़ाकर 60,000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है। विधानसभा अध्यक्ष का मूल वेतन 78,000 रुपये प्रतिमाह से बढ़ाकर 98,000 रुपये, नेता प्रतिपक्ष का 65,000 रुपये से बढ़ाकर 85,000 रुपये और मुख्य सचेतक का 55,000 रुपये से बढ़ाकर 75,000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है।  वेतन के अलावा इनको भी मिली मंजूरी वेतन वृद्धि के अलावा भत्ते और अन्य सुविधाएं भी मंजूर की गईं। मुख्यमंत्री के लिए क्षेत्र भत्ता 80,000 रुपये से बढ़ाकर 95,000 रुपये प्रतिमाह और जलपान भत्ता 60,000 रुपये से बढ़ाकर 70,000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया। मंत्रियों का क्षेत्र भत्ता अब 80,000 रुपये से बढ़ाकर 95,000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है, जबकि जलपान भत्ता 45,000 रुपये से बढ़ाकर 55,000 रुपये प्रतिमाह का जलपान भत्ता मिलेगा। विधायकों का क्षेत्र भत्ता 65,000 रुपये से बढ़ाकर 80,000 रुपये प्रतिमाह और उनका जलपान भत्ता 30,000 रुपये से बढ़ाकर 40,000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया।  समिति की सिफारिशों के बाद लिया गया फैसला यह निर्णय मुख्यमंत्री, मंत्रियों, अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष, मुख्य सचेतक और सचेतक के वेतन और भत्तों की समीक्षा के लिए गठित पांच-सदस्यीय समिति की सिफारिशों के बाद लिया गया। पैनल ने पिछले साल दिसंबर में अपनी रिपोर्ट पेश की, जिसमें मुख्यमंत्री के लिए 25 फीसदी और अन्य मंत्रियों के लिए लगभग 31 फीसदी वेतन वृद्धि की सिफारिश की गई। इसके अतिरिक्त, पिछले साल अगस्त में एक अन्य समिति ने विधायकों का मूल वेतन 40,000 रुपये से बढ़ाकर 60,000 रुपये प्रतिमाह करने का प्रस्ताव रखा और विधायकों के लिए अन्य भत्तों में वृद्धि का सुझाव दिया।  इनपुट- पीटीआई Latest India News Source link

अचानक पीएम मोदी का हाथ पकड़, उंगली चेक करने लगे नीतीश, वायरल हो रहा Video

Image Source : PTI पीएम मोदी के साथ नीतीश। बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार बिहार के राजगीर में नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर का उद्धघाटन किया है। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के विनाश को याद करते हुए कहा कि आग की लपटें किताब जला सकती हैं, ज्ञान नहीं। इस मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी पीएम मोदी के साथ थे। जब पीएम मोदी, नीतीश कुमार के पास में बैठे हुए थे तब अचानक से नीतीश ने उनका हाथ पकड़ लिया और उंगली चेक करने लगे। अब इस घटना का वीडियो काफी वायरल हो रहा है।  नीतीश ने ऐसा क्यों किया? सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर के उद्घाटन अवसर पर एक साथ बैठे हैं। इस बीच नीतीश कुमार अचानक से पीएम मोदी का हाथ पकड़ लेते हैं और उनकी उंगली चेक करते हैं। इसके बाद नीतीश अपनी उंगली भी दिखाते हैं। जानकारी के मुताबिक, नीतीश कुमार ने पीएम मोदी की उंगली पर चुनावी स्याही के निशान को चेक किया था। आगे देखिए इस वाकये का वीडियो नीतीश ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा? उद्घाटन अवसर पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंच से ऐसी बात कह दी जिसे सुनकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभी अपनी हंसी नहीं रोक पाए। नीतीश ने कहा कि अभी कुछ दिन पहले जब यह खबर आई कि आप आ रहे हैं उद्घाटन करने तो हमलोगों को बहुत अच्छा लगा। इसके बाद उन्होंने हंसते हुए कहा कि तीसरी बार भी आप है ही (केंद्र में तीसरी बार सत्ता में आने पर)…फिर आप आ रहे हैं तो हमें बहुत अच्छा लगा। नीतीश ने जैसे ही पीएम मोदी के तीसरी बार का उल्लेख किया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी हंसी नहीं रोक पाए।  नालंदा केवल एक नाम नहीं है- पीएम मोदी उद्घाटन अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नालंदा केवल भारत के ही अतीत का पुनर्जागरण नहीं है, इसमें विश्व और एशिया के कितने ही देशों की विरासत जुड़ी हुई है। पीएम मोदी ने नालंदा विश्वविद्यालय के पुनर्निर्माण की भागीदारी में भारत के मित्र देशों का अभिनंदन किया। पीएम मोदी ने कहा, “नालंदा केवल एक नाम नहीं है। नालंदा एक पहचान है, एक सम्मान है। नालंदा एक मूल्य है, मंत्र है, गौरव है, गाथा है। नालंदा इस सत्य का उद्घोष है कि आग की लपटों में पुस्तकें भले जल जाएं लेकिन आग की लपटें ज्ञान को नहीं मिटा सकतीं।” ये भी पढ़ें- ‘कुर्सी की पेटी बांध लीजिए, सदन का बढ़ने वाला है तापमान’, संसद सत्र शुरू होने से पहले बोली कांग्रेस BJP का स्पीकर..NDA का डिप्टी स्पीकर! राजनाथ सिंह के घर पर हुई बैठक में नामों पर चर्चा Latest India News Source link

राज्यसभा सांसद की बेटी ने फुटपाथ पर सो रहे शख्स को अपनी BMW से रौंदा, मिली फौरन जमानत

Image Source : SOCIAL MEDIA प्रतिकात्मक फोटो मुंबई पोर्स कार का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ कि एक और हिट और रन का मामला चेन्नई से सामने आ गया। जानकारी के मुताबिक, चेन्नई में सोमवार की शाम को वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) के राज्यसभा सांसद की बेटी ने फुटपाथ पर सो रहे शख्स को अपनी लग्जरी कार से कुचल दिया। जिसके बाद शख्स की मौत हो गई है। वहीं, मामले में एक ही दिन बाद आरोपी को जमानत भी मिल गई है। फुटपाथ पर सो रहे शख्स को कुचला जानकारी के मुताबिक, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) के राज्यसभा सांसद बीडा मस्तान राव की बेटी माधुरी ने सोमवार शाम को चेन्नई में एक व्यक्ति को अपनी बीएमडब्ल्यू कार से कुचल दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 21 वर्षीय सूर्या नामक पेंटर की मौत हो गई, जबकि माधुरी को गिरफ्तार कर लिया गया। फिर मंगलवार को आरोपी माधुरी जमानत पर रिहा हो गई। यह घटना उस समय हुई है, जब 19 मई को पुणे के कल्याणी नगर इलाके में एक रईसजादे ने कथित तौर पर अपनी पोर्श कार से एक बाइक को टक्कर मार दी थी, जिससे एक महिला सहित दो युवा सॉफ्टवेयर पेशेवरों की मौत हो गई थी। किशोर को अभी पुणे के एक सुधार गृह में रखा गया है। बता दें कि इस घटना को एक महीने से भी कम समय हुआ है। जमानत पर हुई रिहा चेन्नई पुलिस ने बताया कि तेज रफ्तार BMW कार ने फुटपाथ पर सो रहे व्यक्ति को कुचल दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि महिला और उसके साथ एक अन्य महिला घटना के तुरंत बाद मौके से भाग गईं। मृतक सूर्या सोमवार रात बेसेंट नगर में फुटपाथ पर सो रहा था जब उसे लग्जरी कार ने कुचला। अड्यार ट्रैफिक पुलिस ने आईपीसी की धारा 304ए (लापरवाही से मौत) के तहत मामला दर्ज किया है, जो एक जमानती अपराध है, और कार मालिक को नोटिस भी जारी किया है। मृतक की शादी को हुए थे सिर्फ़ 8 महीने मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना के बाद माधुरी तो तुरंत मौके से भाग गई, लेकिन उसकी दोस्त कार से उतर गई और दुर्घटना के बाद जमा हुए लोगों से बहस करने लगी। फिर वह भी कुछ देर बाद वहां से चली गई। भीड़ में से कुछ लोगों ने सूर्या को अस्पताल पहुंचाया, लेकिन गंभीर चोटों के कारण मौत हो गई। सूर्या की शादी को सिर्फ़ 8 महीने हुए थे। उसके रिश्तेदार और पड़ोसी न्याय की मांग करते हुए जे-5 शास्त्री नगर पुलिस स्टेशन में जमा हो गए। वहीं, सीसीटीवी कैमरे की फुटेज देखने पर पुलिस ने पाया कि कार बीएमआर (बीडा मस्तान राव) ग्रुप की है और पुडुचेरी में रजिस्टर्ड है। फिर माधुरी को गिरफ़्तार किया गया लेकिन पुलिस स्टेशन से उसे ज़मानत मिल गई। लोगों से की बहस वहीं, सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया है जिसमें माधुरी की दोस्त स्थानीय लोगों से बहस करती हुई दिखाई दे रही है। उसे यह कहते हुए सुना गया कि उन्होंने सूर्या को अस्पताल ले जाने के लिए एम्बुलेंस बुलाई है। जानकारी दे दें कि बीदा मस्तान राव, साल 2022 में राज्यसभा सांसद बने हैं, इससे पहले वे विधायक भी रह चुके हैं, बीदा राव समुद्री खाद्य उद्योग में एक प्रमुख नाम बीएमआर समूह से भी जुड़े हैं। (इनपुट-पीटीआई) ये भी पढ़ें: दिल्ली-NCR समेत इन राज्यों में कब होगी बारिश? प्रचंड गर्मी के बीच मौसम विभाग का आया बड़ा अपडेट देश के 41 एयरपोर्ट्स को बम से उड़ाने की मिली धमकी, मैसेज में लिखा था- ‘सभी लोग…’ Latest India News Source link

देश के 41 एयरपोर्ट्स को बम से उड़ाने की मिली धमकी, मैसेज में लिखा था- ‘सभी लोग…’

Image Source : PEXELS/REPRESENTATIVE IMAGE देश के 41 एयरपोर्ट्स को बम से उड़ाने की मिली धमकी। नई दिल्ली: देश भर में आज 41 एयरपोर्ट्स को बम से उड़ाने की धमकी भरे ई-मेल प्राप्त हुए हैं। वहीं बम से उड़ाने की धमकी वाले ई-मेल मिलने के बाद अलग-अलग सभी एयरपोर्टों पर हड़कंप की स्थिति बन गई। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि देश के 41 हवाईअड्डों को मंगलवार को बम की धमकी वाले ई-मेल मिले। हालांकि एयरपोर्ट्स पर बम की सूचना मिलके के बाद सुरक्षा एजेंसियों चौकन्नी हो गईं और घंटों तक जांच अभियान चलाया गया। पूरी जांच में कहीं भी कोई बम नहीं मिला, जिसके बाद सुरक्षा उनमें से प्रत्येक को अफवाह घोषित कर दिया गया। दोपहर में सभी एयरपोर्ट्स पर भेजा गया ई-मेल बताया जा रहा है कि इन सभी 41 एयरपोर्ट्स पर जिस ई-मेल आईडी से मैसेज मिला वह आईडी ‘exhumedyou888@gmail.com’ नाम से बनाई गई थी। इन सभी एयरपोर्ट्स को दोपहर करीब 12.40 बजे ई-मेल प्राप्त हुए। सूत्रों ने बताया कि संबंधित बम खतरा आकलन समिति की सिफारिशों के बाद एयरपोर्ट्स ने आकस्मिक उपाय किए। इसके बाद सुरक्षा एजेंसियों ने भी सघन जांच अभियान चलाया और एयरपोर्ट्स की गहनता से जांच की गई।  स्कूलों में धमकी भरे मेल भेजने वाले गिरोह पर संदेह इसके अलावा इन फर्जी धमकी भरे ई-मेल के पीछे ‘केएनआर’ नामक एक ऑनलाइन समूह का हाथ होने का भी संदेह जताया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि इस ग्रुप ने कथित तौर पर 1 मई को दिल्ली-एनसीआर के कई स्कूलों को इसी तरह के ईमेल जारी किए थे। एयरपोर्ट्स को मिले ई-मेल में लगभग एक ही मैसेज टाइप किया गया था। इस मैसेज में लिखा था “हैलो, एयरपोर्ट में विस्फोटक छिपे हुए हैं। बम जल्द ही फट जाएंगे। आप सभी मर जाएंगे।” सूत्रों ने कहा कि सभी एयरपोर्ट्स ने इस खतरे को अफवाह बताया और यात्रियों की गतिविधियों को सर्वोत्तम क्षमता के अनुसार निर्बाध रखा गया। (इनपुट-भाषा) यह भी पढ़ें-  अजमेर रेलवे स्टेशन पर दरिंदगी, नाबालिग को अगवा कर किया यौन उत्पीड़न; खाली बोगी में मिली पीड़िता फिर नदी में समाया करोड़ों की लागत से बना पुल, टूटने का Video आया सामने Latest India News Source link

संसद सत्र में NEET पेपर लीक का मुद्दा उठाएगा इंडिया गठबंधन, राहुल गांधी ने सरकार को घेरा, कही ये बात

Image Source : PTI संसद सत्र में NEET पेपर लीक का मुद्दा उठाएगा इंडिया गठबंधन नई दिल्लीः नीट (NEET) पेपर लीक मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। नीट पेपर लीक मामले को लेकर विपक्ष सरकार को घेर रहा है। दिल्ली के जंतर-मंतर पर आज आम आदमी पार्टी ने विरोध प्रदर्शन किया। वहीं, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और शिवसेना उद्धव ठाकरे गुट के सांसद अरविंद सांवत समेत कई पार्टियों के नेताओं ने केंद्र सरकार को निशाने पर लिया है। राहुल गांधी ने बीजेपी सरकार को घेरा बीजेपी और केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि नीट परीक्षा में 24 लाख से अधिक छात्रों के भविष्य के साथ हुए खिलवाड़ पर भी पीएम मोदी हमेशा की तरह मौन धारण किए हुए हैं। बिहार, गुजरात और हरियाणा में हुई गिरफ्तारियों से साफ है कि परीक्षा में योजनाबद्ध तरीके से संगठित भ्रष्टाचार हुआ है और ये भाजपा शासित राज्य पेपर लीक का एपिसेंटर बन चुके हैं। हमारे न्यायपत्र में पेपर लीक के विरुद्ध सख्त कानून बना कर युवाओं का भविष्य सुरक्षित करने की हमने गारंटी दी थी।  संसद सत्र में विपक्ष उठाएगा मुद्दा राहुल गांधी ने कहा कि विपक्ष की ज़िम्मेदारी निभाते हुए हम देश भर के युवाओं की आवाज़ सड़क से संसद तक मज़बूती से उठा कर और सरकार पर दबाव डाल कर ऐसी कठोर नीतियों के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध हैं। वहीं इंडिया गठबंधन में शामिल आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी इस मुद्दे को संसद सत्र में उठाएगी। अखिलेश यादव ने कही ये बात वहीं, सपा नेता अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि विभिन्न परीक्षाओं का पेपर लीक होना, परीक्षा में सेंटर से लेकर सॉल्वर तक की धांधली होना, परीक्षा करानेवाली एजेंसी का काम शक के घेरे में आना, रिज़ल्ट में ग्रेस मॉर्क्स की हेराफेरी होना, मनचाहे सेंटर मिलना, एक ही सेंटर से कई कैंडिडेट का सेलेक्ट होना और 100% आना केवल एग्ज़ाम मैनेजमेंट की समस्या नहीं है। इन सबसे बढ़कर ये एक मानसिक त्रासदी है जिससे न केवल परीक्षा देनेवाले युवा बल्कि उनके माता-पिता भी ग्रसित हो रहे हैं।   गोपाल राय बोले संसद में उठेगा मुद्दा दिल्ली सरकार में मंत्री और आप नेता गोपाल राय ने कहा कि पूरे देश का भविष्य दांव पर है। लाखों छात्रों ने परीक्षा दी है। उनके अभिभावक चिंतित हैं। सभी लोग चाहते हैं परीक्षा रद्द हो। घोटाले की जांच की जाए और दोबारा परीक्षा कराई जाए। आप छात्रों के समर्थन में आंदोलन कर रही है। आज हम जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे हैं कल पूरे देश से आवाज उठाई जाएगी। हम सदन में भी मजबूती से आवाज उठाएंगे।  Image Source : PTI धरना प्रदर्शन करते आप नेता  सरकार के बचाव में उतरे मांझी इस मामले पर केंद्रीय मंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि यह भाजपा, कांग्रेस या महागठबंधन का मामला नहीं है। इस पर सरकार बहुत सख्त हुई है और कार्रवाई कर रही है। हमें ऐसा लगता है कि आगे से ऐसी घटनाएं नहीं होंगी। पेपर लीक होने से स्वाभाविक रूप से गरीब छात्रों के साथ न्याय नहीं हुआ है। इसी बात को संज्ञान में लेकर केंद्रीय एजेंसी जांच कर रही है। सरकार इस पर कठोर कानून तक बनाने जा रही है। Latest India News Source link

पश्चिम बंगाल में ट्रेन हादसा, क्या मालगाड़ी चालक की थी गलती? जानें क्या है सच्चाई?

Image Source : PTI पश्चिम बंगाल ट्रेन हादसा पश्चिम बंगाल में रानीपतरा रेलवे स्टेशन और चत्तर हाट जंक्शन के बीच सोमवार को कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से टक्कर मारने वाली मालगाड़ी को स्वचालित सिग्नलिंग ‘‘विफल’’ हो जाने के कारण सभी लाल सिग्नल पार करने की अनुमति दी गई थी। रेलवे के आंतरिक दस्तावेज से यह पता चला है। रेलवे के एक सूत्र ने कहा कि रानीपतरा के स्टेशन मास्टर द्वारा मालगाड़ी के चालक को टीए 912 नामक एक लिखित मंजूरी दी गई थी, जिसमें उसे सभी लाल सिग्नल पार करने का अधिकार दिया गया था। इस अधिकार पत्र में कहा गया, ‘‘स्वचालित सिग्नलिंग विफल हो गई है और आपको आरएनआई (रानीपतरा रेलवे स्टेशन) और सीएटी (चत्तर हाट जंक्शन) के बीच सभी स्वचालित सिग्नलों को पार करने के लिए अधिकृत किया जाता है।’’  ट्रेन की सिग्नल सिस्टम सुबह से थी खराब इसमें यह भी उल्लेख किया गया कि आरएनआई और सीएटी के बीच नौ सिग्नल हैं और मालगाड़ी चालक को सभी सिग्नल को तेजी से पार करने का अधिकार है, भले ही वे लाल या सावधानी (पीले या दोहरे पीले) संकेत दिखा रहे हों। रेलवे सूत्र ने बताया, ‘‘टीए 912 तब जारी किया जाता है जब उस सेक्शन में लाइन पर कोई अवरोध या कोई ट्रेन नहीं होती है और यह ड्राइवर को लाल या सावधानी सिग्नल पार करने का अधिकार देता है। यह जांच का विषय है कि स्टेशन मास्टर ने ऐसा क्यों किया। हो सकता है कि उसे यह गलतफहमी हो गई हो कि पिछली ट्रेन स्टेशन सेक्शन को पार करके दूसरे सेक्शन में प्रवेश कर गई है।’’ सूत्र के अनुसार, आरएनआई और सीएटी के बीच स्वचालित सिग्नलिंग प्रणाली सोमवार सुबह 5.50 बजे से खराब थी।  ट्रेन के रुकने का कारण नहीं पता सूत्र ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘‘ट्रेन संख्या 13174 (सियालदह-कंचनजंघा एक्सप्रेस) सुबह 8:27 बजे रंगापानी स्टेशन से रवाना हुई और आरएनआई और सीएटी के बीच रुकी रही। ट्रेन के रुकने का कारण पता नहीं है।’’ रेलवे के एक अन्य अधिकारी के अनुसार जब स्वचालित सिग्नलिंग प्रणाली विफल हो जाती है, तो स्टेशन मास्टर टीए 912 नामक एक लिखित अधिकार पत्र जारी करता है, जो चालक को गड़बड़ी के कारण सेक्शन में सभी लाल सिग्नल को पार करने के लिए अधिकृत करता है।  मरने वालों की संख्या 9 सूत्र ने बताया, ‘‘रानीपतरा के स्टेशन मास्टर ने ट्रेन नंबर 13174 (सियालदह-कंचनजंघा एक्सप्रेस) को टीए 912 जारी किया था।’’ उन्होंने बताया कि ‘‘लगभग उसी समय एक मालगाड़ी, जीएफसीजे, सुबह 8:42 बजे रंगापानी से रवाना हुई और 8:55 बजे कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से टक्कर मार दी, जिसके परिणामस्वरूप गार्ड का कोच, दो पार्सल कोच और एक सामान्य सीटिंग कोच (यात्री ट्रेन का) पटरी से उतर गया।’’ रेलवे बोर्ड ने अपने शुरुआती बयान में कहा कि मालगाड़ी के चालक ने सिग्नल की अनदेखी की। उसने मरने वालों की कुल संख्या नौ बताई। इसके अलावा, नौ लोग गंभीर रूप से घायल हैं और 32 को मामूली चोटें आई हैं।  जया वर्मा सिन्हा ने बताया संभावित “मानवीय भूल” रेलवे बोर्ड की अध्यक्ष जया वर्मा सिन्हा ने मालगाड़ी के चालक की ओर से संभावित “मानवीय भूल” की ओर इशारा करते हुए कहा कि न्यू जलपाईगुड़ी के निकट टक्कर संभवतः इसलिए हुई क्योंकि मालगाड़ी ने सिग्नल की अनदेखी की और अगरतला से सियालदह जा रही कंचनजंघा एक्सप्रेस को टक्कर मार दी। लोको पायलट संगठन ने रेलवे के इस बयान पर सवाल उठाया है कि चालक ने रेल सिग्नल का उल्लंघन किया। भारतीय रेलवे लोको रनिंगमैन संगठन (आईआरएलआरओ) के कार्यकारी अध्यक्ष संजय पांधी ने कहा, ‘‘अब, दस्तावेज़ से यह स्पष्ट है कि गड़बड़ी के कारण मालगाड़ी के लोको पायलट को लाल सिग्नल पार करने का अधिकार दिया गया था। यह रेलवे प्रशासन की विफलता है, न कि ड्राइवर की गलती।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लोको पायलट की मौत हो जाने और सीआरएस जांच लंबित होने के बावजूद लोको पायलट को ही जिम्मेदार घोषित करना अत्यंत आपत्तिजनक है।’’  (इनपुट-भाषा) Latest India News Source link

NEET Paper Leak पर धर्मेंद्र प्रधान का बयान, बोले- NTA में बदलाव की जरूरत, दोषियों के खिलाफ होगी कार्रवाई

Image Source : PTI NEET Paper Leak पर धर्मेंद्र प्रधान का बयान NEET परीक्षा के पेपर लीक होन के बाद से ही नेशनल टेस्टिंग एजेंसी यानी एनटीए सवालों के घेरे में है। इस मामले पर छात्रों का आक्रोश भी बढ़ रहा है। वहीं विपक्षी दलों के नेताओं द्वारा बार-बार नीट पेपर लीक मामले पर बयानबाजी की जा रही है। इस बीच अब केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बयान दिया है। उन्होंने रविवार को कहा, नीट परीक्षा के रिजल्ट में जो गड़बड़ियां हुई हैं, उसमें जो भी अधिकारी शामिल हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। वो अधिकारी एनटीए में चाहे कितने भी बड़े पद पर क्यों न हो उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि एनटीए में सुधार की आवश्यकता है। धर्मेंद्र प्रधान बोले- छात्रों और अभिभावकों को करता हूं आश्वसत मीडिया से बात करते हुए धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि नीट के संबंध में दो प्रकार की अव्यवस्था की जानकारी सामने आई है। प्रारंभिक जानकारी ये आई थी कि कुछ छात्रों को कम समय मिलने के कारण उनमें रोष देखा गया, जहां ग्रेस मार्क की व्यवस्था की गई थी। इसे सरकार ने नामंजूर कर दिया है और सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसारन 1563 बच्चों की दोबारा परीक्षा कराने को लेकर निर्देश दे दिया है। दो जगहों पर कुछ गड़बड़ियों की जानकारी आई है। मैं अभिभावकों और छात्रों को आश्वस्त करता हूं कि सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लिया है। हम इसे निर्णायक परिस्थिति तक ले जाएंगे। धर्मंद्र प्रधान बोले- दोषी अधिकारियों के खिलाफ होगी कार्रवाई उन्होंने कहा कि पहले एनटीए एक स्वायत संस्था थी। एनटीए में बहुत सुधार की आवश्यकता है। सरकार उसे सुधारने का काम कर रही है। इसमें कोई भी बड़ा अधिकारी हो। एनटीए का कितना भी बड़ा अधिकारी हो, अगर गुनहगार पाए जाते हैं तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एनटीए को सुधारने की आवश्यकता है। सरकार इसके लिए आश्वस्त कर रही है। बता दें कि इस मामले पर बीते कल भाजपा नेता गिरिराज सिंह और शाहनवाज हुसैन ने कहा था कि धर्मेंद्र प्रधान ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और इसपर वो काम कर रहे हैं।  Latest India News Source link

Verified by MonsterInsights