सिक्किम के लाचुंग में भारी बारिश और भूस्खलन, 1200 से ज्यादा पर्यटक फंसे, कई विदेशी भी शामिल

Sikkim Rains, Lachung Tourists, Sikkim Landslides, Sikkim Heavy Rains-Live  India News

गंगटोक: सिक्किम के मंगन जिले के लाचुंग में भारी बारिश और भूस्खलन के कारण सड़क अवरुद्ध होने से 1200 से ज्यादा घरेलू पर्यटक फंस गए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सड़कों के टूटने-फूटने और उनके ब्लॉक होने के चलते 15 विदेशी पर्यटक भी मुश्किल में हैं। विदेशी पर्यटकों में थाईलैंड के 2, नेपाल के 3 और बांग्लादेश के 10 पर्यटक शामिल हैं। बताया जा रहा है कि सभी पर्यटक सुरक्षित हैं लेकिन वे अपने गंतव्य की तरफ अभी नहीं बढ़ सकते। स्थानीय अधिकारियों ने उन्हें अपने जगह बने रहने और कोई जोखिम लेने से बचने की सलाह दी है।

‘भोजन की कमी का कोई खतरा नहीं’

रिपोर्ट्स के मुताबिक, जो लोग फंस गए हैं उन्हें भोजन की कमी का तत्काल कोई खतरा नहीं है, क्योंकि सभी को भोजन उपलब्ध कराने के लिए पर्याप्त राशन उपलब्ध है। सिक्किम के मुख्य सचिव के कार्यालय ने मौसम अनुकूल होने पर पर्यटकों की संभावित एयरलिफ्टिंग के लिए भारत सरकार के साथ चर्चा शुरू कर दी है। वैकल्पिक रूप से अगर जरूरी हुआ तो सड़क मार्ग से निकासी की व्यवस्था की जाएगी।

केवल लाचुंग के इलाके में हो रही दिक्कत

सिक्किम का पर्यटन और नागरिक उड्डयन विभाग पर्यटकों की सुरक्षित निकासी सुनिश्चित करने के लिए मंगन जिले में जिला प्रशासन, पुलिस विभाग और स्थानीय पर्यटन हितधारकों के साथ मिलकर काम कर रहा है। अधिकारियों की ओर से संकट की घड़ी में सभी फंसे हुए पर्यटकों को मदद का भरोसा दिया जा रहा है। भारी बारिश और भूस्खलन के कारण केवल लाचुंग का इलाका प्रभावित है, जबकि यात्रा के लिए सिक्किम राज्य खुला और सुरक्षित है।

भूस्खलन से कई घर हुए क्षतिग्रस्त

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश के कारण पूर्वी सिक्किम के लोअर टिंटेक वार्ड में भूस्खलन से कई घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। मार्चक में सिंगताम-डिक्चू सड़क की हालत भी चिंताजनक है। भारी बारिश के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है और लोगों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। (IANS)

Latest India News

Source link


Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading

Verified by MonsterInsights