पैसेंजर्स की IndiGo लखनऊ-वाराणसी फ्लाइट इस वजह से छूटी, एयरलाइन ने मांगी माफी, जानें क्यों लगा जुर्माना


आव्रजन ब्यूरो ने वीजा संबंधी कथित उल्लंघन के लिए एयरलाइन पर जुर्माना लगाया।- India TV Paisa

Photo:FILE आव्रजन ब्यूरो ने वीजा संबंधी कथित उल्लंघन के लिए एयरलाइन पर जुर्माना लगाया।

घरेलू एयरलाइन इंडिगो को लेकर खबर है। दरअसल, बीते मंगलवार को  इंडिगो के कुछ पैसेंजर्स लखनऊ से वाराणसी जाने वाली अपनी कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ने से चूक गए। ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि ऑपरेशनल वजहों से आने वाली फ्लाइट में देरी हो गई। इसके बाद पैसेंजर्स ने एयरलाइन पर नाराजगी जताई। भाषा की खबर के मुताबिक, बाद में इसके लिए एयरलाइन ने पैसेंजर्स से माफी मांगी। एयरलाइन ने बयान में कहा कि ग्राहकों को जलपान परोसा गया और लखनऊ में होटल आवास के साथ अगली उपलब्ध उड़ान से यात्रा करने या लखनऊ में तत्काल सड़क परिवहन के माध्यम से अपनी यात्रा जारी रखने के विकल्प दिए गए।

एयरलाइन ने कहा-हमें खेद है

खबर के मुताबिक, बयान में कहा गया कि हम अपने ग्राहकों को हुई असुविधा के लिए गहरा खेद व्यक्त करते हैं। इंडिगो के बयान के मुताबिक, देहरादून से लखनऊ जाने वाली फ्लाइट ‘6ई 518’ में परिचालन कारणों से देरी हुई, इससे कुछ यात्री लखनऊ से वाराणसी जाने वाली अपनी फ्लाइट ‘6ई 7741’नहीं ले सके।

इंडिगो पर लगा इस बात के लिए जुर्माना

आव्रजन ब्यूरो ने वीजा संबंधी कथित उल्लंघन के लिए एयरलाइन कंपनी इंडिगो पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। इंडिगो की मूल कंपनी इंटरग्लोब एविएशन ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि जुर्माने के चलते कंपनी की वित्तीय स्थिति, परिचालन या दूसरी गतिविधियों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। गृह मंत्रालय के तहत आने वाले आव्रजन ब्यूरो ने एयरलाइन कंपनी पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

शेयर बाजार को दी गई जानकारी के मुताबिक, कथित वीजा-संबंधी उल्लंघनों के लिए जुर्माने से संबंधित सूचना एयरलाइन को 11 जून को हासिल हुई। विस्तृत विवरण का खुलासा नहीं किया गया है। शेयर बाजार को देरी से जानकारी देने के लिए स्पष्टीकरण देते हुए कंपनी ने कहा कि वह आदेश के खिलाफ अपील दायर करने की संभावनाएं तलाश रही थी।

Latest Business News





Source link


Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading

Verified by MonsterInsights