इस एयरलाइंस में पालतू जानवर ले जा सकेंगे, वजन 7 Kg से बढ़ाकर 10 किलोग्राम किया गया


Pets in Airlines - India TV Paisa

Photo:FILE एयरलाइंस में पालतू जानवर

अकासा एयर ने अब घरेलू उड़ानों के केबिन में 10 किलोग्राम तक वजन वाले पालतू जानवरों को भी ले जाने की अनुमति यात्रियों को दे दी है। एयरलाइन ने बुधवार को उड़ान में ले जाने लायक पालतू जानवरों के वजन को बढ़ाने की घोषणा की। उसने यह कदम ग्राहकों की प्रतिक्रिया को ध्यान में रखते हुए उठाया है। अकासा एयर ने नवंबर, 2022 में यात्रियों को केबिन या कार्गो में बिल्लियों और कुत्तों के साथ घरेलू उड़ानों में उनके वजन के आधार पर यात्रा करने की अनुमति दी थी। 

3,200 से अधिक पालतू जानवरों ने सफर किया

पहले केबिन के भीतर पालतू जानवरों के लिए सात किलोग्राम वजन की सीमा तय की गई थी जिसे अब बढ़ाकर 10 किलोग्राम कर दिया गया है। एयरलाइन ने एक बयान में कहा कि कार्गो में 32 किलोग्राम तक वजन वाले पालतू जानवरों की अनुमति है। नवंबर, 2022 में यह सेवा शुरू होने के बाद से एयरलाइन की उड़ान से अब तक 3,200 से अधिक पालतू जानवरों ने सफर किया है। भारतीय एयरलाइंस में से अकासा एयर के अलावा सिर्फ एयर इंडिया ही केबिन में पालतू जानवरों को ले जाने की अनुमति देती है जबकि स्पाइसजेट कार्गो में पालतू जानवरों को ले जाने की अनुमति देती है। 

डीजीसीए से जानकारी मांगेगा श्रम विभाग 

क्षेत्रीय श्रम आयुक्त एयर इंडिया एक्सप्रेस प्रबंधन और चालक दल के सदस्यों के एक वर्ग के बीच विवाद के संबंध में चल रही सुलह प्रक्रिया को लेकर विमानन नियामक डीजीसीए से जानकारी मांगेंगे। एक सूत्र ने यह जानकारी दी। टाटा समूह के स्वामित्व वाली एयर इंडिया एक्सप्रेस घाटे में चल रही एआईएक्स कनेक्ट का अपने साथ विलय करने की प्रक्रिया में है। एआईएक्स कनेक्ट को पहले एयर एशिया इंडिया कहा जाता था। इस बीच, एयरलाइन में कथित कुप्रबंधन के विरोध में चालक दल के सदस्यों के एक वर्ग के बीमार होने की सूचना के बाद एयर इंडिया एक्सप्रेस ने मंगलवार रात से 90 से अधिक उड़ानें रद्द कर दी हैं। एयरलाइन ने कहा है कि वह समस्याओं के समाधान के लिए हरसंभव कदम उठा रही है। 

 

Latest Business News





Source link


Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe to get the latest posts to your email.

Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading