विदेशों से इस तरह आ रहा अवैध पैसा… RBI ने बैंकों से कहा- तुरंत ED को दें जानकारी


अनधिकृत विदेश मुद्रा...- India TV Paisa

Photo:FREEPIK अनधिकृत विदेश मुद्रा लेनदेन

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बुधवार को बैंकों से बैंकिंग माध्यमों के जरिए अनधिकृत विदेशी मुद्रा लेनदेन को रोकने के लिए अधिक सतर्कता बरतने और ऐसे मामलों की जानकारी तुरंत ED को देने को कहा है। रिजर्व बैंक ने एक सर्कुलर में कहा कि अनधिकृत संस्थाओं द्वारा भारतीय निवासियों को अत्यधिक मुनाफे का वादा करते हुए विदेशी मुद्रा लेनदेन सुविधाएं प्रदान करने के मामले सामने आए हैं। आरबीआई ने कहा, ‘‘जांच में पाया गया कि अनधिकृत विदेशी मुद्रा व्यापार को सुविधाजनक बनाने के लिए इन संस्थाओं ने स्थानीय एजेंट को शामिल करने का सहारा लिया है, जो मुनाफा, निवेश, शुल्क आदि के लिए धन इकट्ठा करने को विभिन्न बैंक शाखाओं में खाते खोलते हैं।’’

लोगों-कंपनियों के नाम पर खोले जाते हैं खाते

टॉप बैंक ने कहा कि ये खाते लोगों, व्यापारिक कंपनियों आदि के नाम पर खोले जाते हैं। ऐसे खातों में लेनदेन कई बार खाता खोलने के बताए गए उद्देश्य के अनुरूप नहीं होते। केंद्रीय बैंक ने कहा कि यह भी पाया गया कि ये संस्थाएं निवासियों को ऑनलाइन भुगतान और ‘पेमेंट गेटवे’ जैसी घरेलू भुगतान प्रणालियों का इस्तेमाल करके अनधिकृत विदेशी मुद्रा लेनदेन करने के लिए रुपये में धनराशि भेजने/जमा करने के विकल्प भी प्रदान कर रही हैं। अधिकृत डीलर श्रेणी- I बैंकों (एडी कैट- I बैंकों) को लिखे सर्कुलर में कहा गया कि अनधिकृत विदेशी मुद्रा व्यापार की सुविधा में बैंकिंग माध्यमों के दुरुपयोग को रोकने के लिए अधिक सतर्कता की आवश्यकता है।

बैंकों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत

आरबीआई ने कहा, ‘‘इसलिए बैंकों को अधिक सतर्क रहने और इस संबंध में अधिक सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। जब भी एडी कैट-I बैंकों को अनधिकृत विदेशी मुद्रा व्यापार की सुविधा के लिए इस्तेमाल किए जा रहे किसी खाते का पता चले तो वे आगे की कार्रवाई के लिए ईडी, भारत सरकार जिसे उचित हो इसकी सूचना दें।’’ केंद्रीय बैंक ने एडी कैट-I बैंक से अपने ग्राहकों को केवल ‘‘अधिकृत लोगों’’ और ‘‘अधिकृत ईटीपी’’ के साथ विदेशी मुद्रा में लेनदेन करने की सलाह भी दी।

Latest Business News





Source link


Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe to get the latest posts to your email.

Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading