यूरोपीय संघ का बड़ा कदम, उत्तर कोरिया पर लगाए नए प्रतिबंध…बताई ये वजह


European Union- India TV Hindi

Image Source : FILE AP
European Union

ब्रसेल्स: यूरोपीय संघ (EU) ने बैलिस्टिक और परमाणु मिसाइलों के विकास के निरंतर प्रयासों तथा रूस को समर्थन देने के कारण उत्तर कोरिया पर और अधिक प्रतिबंध लगा दिए हैं। ईयू परिषद ने शुक्रवार को कहा कि यात्रा और संपत्ति संबंधी इन पाबंदियों से नौ और लोग तथा संस्थान प्रभावित होंगे। यूरोपीय देशों के इस संगठन ने उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल परीक्षणों को लेकर संयुक्त राष्ट्र की पाबंदियों की तर्ज पर 2006 में इस पर पाबंदियां लगाना शुरू किया था। ईयू परिषद ने अब तक कुल 77 लोगों और 20 कंपनियों या संस्थानों पर पाबंदी लगाई है। ईयू ने बताया कि परिषद ने छह और लोगों तथा तीन निकायों पर प्रतिबंध लगा दिया है। उत्तर कोरिया ने इस साल कम से कम 22 मिसाइल का प्रक्षेपण किए हैं। 

यूक्रेन पर दागी गईं उत्तर कोरिया की मिसाइलें 

बता दें कि, रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग को लेकर अमेरिका की तरफ से यह बात कही जाती रही है कि रूस जंग में उत्तर कोरिया के हथियारों का इस्तेमाल कर रहा है। अब इसे लेकर पेंटागन की एक नई रिपोर्ट भी सामने आई है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि रूस यूक्रेन में उत्तर कोरियाई बैलिस्टिक मिसाइलों का इस्तेमाल कर रहा है। रिपोर्ट में मलबे के विश्लेषण का हवाला देते हुए आरोपों की पुष्टि की गई है कि प्योंगयांग मॉस्को को हथियार भेज रहा है। 

रूस ने किया उत्तर कोरिया की मिसाइलों से हमला 

पेंटागन की रक्षा खुफिया एजेंसी की रिपोर्ट ने ओपन-सोर्स इमेजरी का इस्तेमाल करके पुष्टि की है कि इस साल जनवरी में यूक्रेन के खारकीव क्षेत्र में पाया गया मलबा उत्तर कोरिया में बनी कम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल का है। रिपोर्ट के साथ जारी एक बयान में डीआईए ने कहा, “विश्लेषण से पुष्टि होती है कि रूस ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में उत्तर कोरिया में बनी बैलिस्टिक मिसाइलों का इस्तेमाल किया है।” रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि उत्तर कोरिया की मिसाइलों का मलबा पूरे यूक्रेन में पाया गया है।  (भाषा)

यह भी पढ़ें:

जर्मनी के इस कदम से भयानक मोड़ ले सकती है रूस-यूक्रेन जंग, पुतिन पहले ही दे चुके हैं चेतावनी

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने इमरान खान को दी ‘मुंह बंद’ रखने की नसीहत, जानें और क्या कहा

Latest World News





Source link


Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

Discover more from LIVE INDIA NEWS

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading

Verified by MonsterInsights