Budget Explainer 2024 : आम आदमी को इस बजट में क्या मिलीं बड़ी सौगातें? इन 10 पॉइंट्स से समझिए

Photo:FILE बजट 2024 Budget Explainer 2024 : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज मंगलवार को मोदी सरकार 3.0 का पहला बजट पेश कर दिया है। यह निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किया गया सातवां बजट था। इस बजट में वित्त मंत्री ने करदाताओं को बड़ा तोहफा दिया। आइए कुछ बिंदुओं से समझते हैं कि इस बजट में आम आदमी को क्या-क्या मिला है। वेतनभोगी कर्मचारियों के लिये स्टैंडर्ड डिडक्शन को 50 हजार रुपये से बढ़ाकर 75 हजार रुपये कर दिया है। न्यू टैक्स रिजीम के स्लैब्स को बदल दिया है। इससे करदाताओं को 17,500 रुपये तक की बचत होगी। मुद्रा लोन की सीमा को 10 लाख रुपये से बढ़ाकर 20 लाख रुपये किया जाएगा। एनपीएस में नियोक्ता द्वारा किए जा रहे योगदान को कर्मचारी के वेतन के 10 फीसदी से बढ़ाकर 14 फीसदी करने का प्रस्ताव है। सोना-चांदी होगा सस्ता, इन पर कस्टम ड्यूटी को घटाकर कर 6 फीसदी और प्लेटिनम पर 6.4 फीसदी करने का प्रस्ताव है। कैंसर मरीजों को राहत देते हुए तीन और दवाओं पर कस्टम ड्यूटी को पूरी तरह हटाया गया है। मोबाइल फोन, मोबाइल पीसीबीए और मोबाइल चार्जर होंगे सस्ते, बेसिक कस्टम ड्यूटी घटाकर 15 फीसदी करने का प्रस्ताव है। पीएम आवास योजना शहरी 2.0 के तहत 1 करोड़ शहरी गरीब एवं मध्यवर्गीय परिवारों को लाभ मिलेगा। देश की टॉप कंपनियों में 5 साल में 1 करोड़ युवाओं को स्किल ट्रेनिंग मिलेगी यानी इंटर्नशिप मिलेगी। 5 हजार रुपये मासिक मानदेय के साथ 12 महीने की प्रधानमंत्री इंटर्नशिप योजना की घोषणा हुई है। प्रधानमंत्री जनजातीय उन्नत ग्राम अभियान की घोषणा हुई है। इससे 63 हजार गांवों में 5 करोड़ जनजातीय लोगों को फायदा होगा। युवाओं की पहली जॉब की पहली सैलरी सरकार देगी। Latest Business News डिस्क्लेमरः यह Live India News की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. Live India News की टीम ने संपादित नहीं किया है Source link

चीन से FDI बढ़ाया तो होगा फायदा ही फायदा, इकोनॉमिक सर्वे में क्यों कही गई यह बात?

चीन के साथ तनावपूर्ण संबंधों के बीच सोमवार को संसद में पेश बजट-पूर्व आर्थिक समीक्षा 2023-24 में लोकल मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने और निर्यात बाजार का दोहन करने के लिए पड़ोसी देश (चीन) से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) बढ़ाने की वकालत की गई है।

free internet Bill : क्या अब फ्री में मिलेगा इंटरनेट? सरकार ला रही यह शानदार बिल, खुशी से झूम जाएंगे आप

Photo:PIXABAY फ्री इंटरनेट बिल free internet Bill : कैसा हो कि आपको अपने इंटरनेट का रिचार्ज प्लान महंगा पड़ रहा हो और बजट पर असर पड़ रहा हो, तो उसका पेमेंट सरकार कर दे। यह अब सच हो सकता है। सकार ने देश के हर नागरिक को फ्री इंटरनेट का अधिकार देने वाले प्राइवेट बिल पर विचार को मंजूरी दे दी है। यह बिल देश के पिछड़े और गरीब तबके के लोगों को फ्री इंटरनेट उपलब्ध कराने की बात करता है। जिससे देश का हर नागरिक डिजिटल इंडिया की पहल में शामिल हो सकेगा। बिल का उद्देश्य है कि कोई भी भारतीय नागरिक इंटरनेट कनेक्टिविटी से दूर नहीं रहा चाहिए। इसके लिये सरकार द्वारा फ्री इंटरनेट उपबल्ध कराया जाए। दिसंबर 2023 में आया था बिल फ्री इंटरनेट बिल को दिसंबर 2023 में राज्यसभा के सामने रखा गया था। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी यानी सीपीएम के सदस्य वी शिवदासन ने यह बिल पेश किया था। नए अपडेट के अनुसार, दूरसंचार मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राज्यसभा महासचिव को बताया है कि राष्ट्रपति ने इस बिल पर विचार करने की सिफारिश की है। बिल में कहा गया है कि या तो सरकार सीधे फ्री इंटरनेट लोगों को उपलब्ध कराए या किसी सर्विस प्रोवाइडर की सेवाओं पर पूरी तरह से सब्सिडी दे। कई देशों में है फ्री इंटरनेट बिल के अनुसार यदि नागरिक इंटरनेट का रिचार्ज कराने में समर्थ नहीं है, तो यह सरकार की जिम्मेदारी है कि उसे फ्री इंटरनेट उपलब्ध कराए। हालांकि, अभी यह सामने नहीं आया है कि कितनी इनकम वालों को फ्री इंटरनेट उपलब्ध होगा। कितने जीबी फ्री इंटरनेट मिलेगा और इसके क्या नियम होंगे, यह अभी नहीं पता लगा है। यह बिल राइट टू स्पीच अधिकार की तरह ही राइट टू इंटरनेट के अधिकार पर जोर देता है। इस समय लिथुआनिया, सिंगापुर और स्विटजरलैंड जैसे कई देश अपने नागरिकों को फ्री इंटरनेट दे रहे हैं। Latest Business News डिस्क्लेमरः यह Live India News की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. Live India News की टीम ने संपादित नहीं किया है Source link

Budget 2024: आयकर की धारा 80C की लिमिट बढ़ती है तो इन Mutual Fund निवेशकों की होगी मौज

Budget2024: बजट 2024 पेश होने में 24 घंटे से भी कम का समय अब बाकी है। बजट में सरकार से निवेशकों को भी काफी उम्मीदें हैं। ऐसे में निवेशक इस बात की भी आस लगाए

रियल एस्टेट में बूम से लैंड की जबरदस्त मांग, 6 माह में 1,045 एकड़ जमीन की हुई बिक्री, ये दो शहर टॉप पर

Photo:FILE जमीन भारत के रियल एस्टेट सेक्टर में 2024 की पहली छमाही में 1,045 एकड़ के 54 जमीनों के सौदे देखने को मिले हैं। 2023 की पहली छमाही में 950 एकड़ के 46 जमीनों के सौदे हुए थे। रविवार को आई एक रिपोर्ट में यह जानकारी मिली। एनारॉक के ताजा डेटा के मुताबिक, अप्रैल-जून की तिमाही में 325 एकड़ से अधिक के 25 जमीन के सौदे पूरे हुए हैं। 2024 की दूसरी तिमाही में अकेले बेंगलुरु में 114 एकड़ के नौ नए जमीन के सौदे हुए हैं। इसके बाद गुरुग्राम का नाम है। जहां 77.5 एकड़ के सात जमीनों के सौदे पूरे हुए हैं। जमीन की मांग में दूसरे नंबर पर गुरुग्राम एनारॉक ग्रुप के रीजनल डायरेक्टर और एडवाइजरी एंड रिसर्च हेड, डॉ. प्रशांत ठाकुर ने कहा कि बेंगलुरु में हुई सभी डील रेजिडेंशियल प्रोजेक्ट्स विकसित करने के लिए हुई हैं। ठाकुर ने आगे कहा कि इसके बाद गुरुग्राम का नाम है, यहां 2024 की दूसरी तिमाही में 77.5 एकड़ की सात जमीनों के सौदे हुए हैं। ये सौदे रेजिडेंशियल प्रोजेक्ट्स और कृषि से जुड़े हुए हैं। 2024 की दूसरी तिमाही में पूरे हुए कुल जमीनों के सौदों में से 17 से अधिक (163 एकड़) पर रेजिडेंशियल प्रोजेक्ट्स प्रस्तावित हैं। कृषि, मिश्रित उपयोग, डेटा सेंटर्स, लॉजिस्टिक्स पार्क्स, इंडस्ट्रीयल और रिटेल के लिए एक-एक सौदे हुए हैं। जमीनों की मांग में लगातार इजाफा हो रहा पिछले कुछ वर्षों से जमीनों की मांग में लगातार इजाफा हो रहा है। डेवलपर्स नए प्रोजेक्ट्स के लॉन्च के बाद आसानी से नए यूनिट्स की बिक्री कर पा रहे हैं। ठाकुर ने कहा कि मुंबई, जो कि पिछली कुछ तिमाही में जमीनों के सौदों में शीर्ष पर था। 2024 की दूसरी तिमाही में केवल दो जमीनों के सौदे हुए हैं, जिसमें से एक इंडस्ट्रीयल उद्देश्य और दूसरा रिटेल क्षेत्र विकसित करने के लिए है। हालांकि, 2024 की पहली छमाही में मुंबई में 34 एकड़ के 5 जमीन के सौदे हुए हैं। वहीं, हैदराबाद में 63.5 एकड़ के तीन और चेन्नई में 48 एकड़ के तीन जमीन के सौदे हुए हैं। पुणे, अहमदाबाद, नोएडा और ठाणे में कुल मिलाकर 103 एकड़ के दो-दो जमीन के सौदे हुए हैं। रिपोर्ट में बताया गया कि गाजियाबाद में 62.5 एकड़ का एक और दिल्ली में 5 एकड़ का एक जमीन का सौदा हुआ है। इनपुट: आईएएनएस Latest Business News डिस्क्लेमरः यह Live India News की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. Live India News की टीम ने संपादित नहीं किया है Source link

ITR Filing: अगर करेंगे ये 6 गलतियां तो रद्द हो सकता है आपका आयकर रिटर्न फॉर्म

Photo:FILE आयकर रिटर्न ITR Filling: इनकम टैक्स रिटर्न भरने की डेडलाइन नजदीक आ रही है। वित्त वर्ष 2023-24 (आकलन वर्ष 2024-25) के लिए बिना विलंब शुल्क के आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई 2024 है। ऐसे में बहुत सारे लोग अपना रिटर्न भर रहे हैं। अगर आप भी अपना रिटर्न भरने जा रहे हैं तो कुछ बातों का खास ख्याल रखें। अगर सावधानी नहीं रखेंगे तो आपका रिटर्न फॉर्म रद्द हो सकता और आप परेशानी में फंस सकते हैं। अधूरी या गलत जानकारी इसमें व्यक्तिगत विवरण में टाइपिंग संबंधित गलतियों से लेकर आय के आंकड़ों या दावा की गई कटौतियों की गलती शामिल होती है। रिटर्न फॉर्म सबमिट करने से पहले सभी जानकारियों को अच्छी तरह से सत्यापित करें। गलत जानकारी देने से प्रक्रिया में देरी हो सकती है, आपका आवेदन रद्द हो सकता है या दंड लग सकता है। इनकम की जानकारी में अंतर अगर आपके रिटर्न में घोषित आय और आपके नियोक्ता (जैसा कि फॉर्म 16 में दिखाया गया है) या आय के अन्य स्रोतों द्वारा बताई गई आय के बीच कोई अंतर है, तो आयकर विभाग आपके ITR को अस्वीकार कर सकता है। यह अंतर इसलिए उत्पन्न होती है क्योंकि विभाग को नियोक्ता, बैंक और निवेश संस्थानों जैसे कई स्रोतों से डेटा प्राप्त होता है। गलत टैक्स असेसमेंट टैक्स की गलत गणना ITR अस्वीकृति का एक महत्वपूर्ण कारण है। आपकी कर देयता की सटीक गणना आपके ITR के लिए महत्वपूर्ण है। कर योग्य आय, कटौती, छूट या कर दरों की गणना में त्रुटियां अस्वीकृति का कारण बन सकती हैं। नवीनतम कर नियमों और विनियमों का पालन करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे परिवर्तन के अधीन हैं। समय पर फॉर्म जमा करना समय सीमा से पहले अपना ITR जमा करना बहुत जरूरी है। हर साल, ITR फ़ॉर्म के लिए एक खास फाइलिंग डेडलाइन होती है। इस डेडलाइन को मिस करने से अस्वीकृति की संभावना बढ़ जाती है। सुनिश्चित करें कि आप नियत तिथि से पहले ही अपना रिटर्न दाखिल कर दें। डेडलाइन को पूरा न करने पर आपको पेनाल्टी लग सकती है या आपका रिटर्न अस्वीकार हो सकता है। हस्ताक्षर या सत्यापन शामिल न करना हस्ताक्षर या सत्यापन शामिल न करना महत्वपूर्ण समस्याओं का कारण बन सकता है। ITR फ़ॉर्म में आमतौर पर निर्दिष्ट क्षेत्रों में भौतिक हस्ताक्षर अनिवार्य होते हैं। इसके अतिरिक्त, जमा करने के बाद इलेक्ट्रॉनिक सत्यापन (ई-सत्यापन) आवश्यक हो सकता है। इनमें से किसी भी चरण को पूरा न करने पर आपका रिटर्न अस्वीकार हो सकता है। Latest Business News डिस्क्लेमरः यह Live India News की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. Live India News की टीम ने संपादित नहीं किया है Source link

JIO ने चीनी कंपनियों को पीछे छोड़ा, इस मामले में बनी दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी

Photo:ANI जियो दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो ने शनिवार को कहा कि वह ‘डेटा ट्रैफिक’ यानी खपत के मामले में चीनी कंपनियां को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गयी है। कंपनी ने बयान में कहा, प्रति व्यक्ति डेटा खपत बढ़कर 30.3 जीबी प्रति माह यानी प्रतिदिन एक जीबी से अधिक हो गई। इसके साथ वह डेटा ट्रैफिक के मामले में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गयी है। रिलायंस JIO के जून तिमाही के आंकड़ों के अनुसार डेटा खपत 32.8 प्रतिशत बढ़कर 44 अरब गीगाबाइट (जीबी) हो गयी जो बीते साल इसी तिमाही में 33.2 अरब जीबी थी। ग्राहकों की संख्या 49 करोड़ पहुंची बयान में कहा गया है कि कंपनी के कुल ग्राहकों की संख्या लगभग 49 करोड़ पहुंच गई है, जिसमें 13 करोड़ 5जी उपयोगकर्ता शामिल हैं। इसके साथ अगर चीन को छोड़ दें तो जियो 5जी सेवाओं के मामले में सबसे बड़ी कंपनी बन गयी है। रिलायंस जियो इन्फोकॉम के चेयरमैन आकाश एम अंबानी ने कहा, गुणवत्तापूर्ण उच्च कवरेज वाला, किफायती इंटरनेट डिजिटल इंडिया की रीढ़ है और जियो को इसमें योगदान देने पर गर्व है। हमारे नये ‘प्रीपेड प्लान’, 5जी और एआई (कृत्रिम मेधा) के क्षेत्र में नवोन्मेष और सतत विकास को बढ़ावा देंगे। ‘ग्राहक पहले’ दृष्टिकोण के साथ, अपने बेहतर नेटवर्क और नए सेवा प्रस्तावों के दम पर जियो बाजार में अपनी अगुवा वाली स्थिति को और मजबूत करेगी। वॉयस कॉलिंग भी रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची कंपनी नेटवर्क पर वॉयस कॉलिंग चालू वित्त वर्ष की जून तिमाही में 1,420 अरब मिनट के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई जो पिछले साल की इसी अवधि के मुकाबले छह प्रतिशत अधिक है। Latest Business News डिस्क्लेमरः यह Live India News की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. Live India News की टीम ने संपादित नहीं किया है Source link

YES Bank को Q1 में हुआ तगड़ा मुनाफा, Profit में इतने फीसदी का बड़ा उछाल, शेयर पर दिखेगा असर

Photo:FILE यस बैंक YES Bank Q1 Results: यस बैंक ने आज अपने Q1FY25 के नतीजे घोषित किए हैं। बैंक को Q1FY25 (30 जून को समाप्त तिमाही) के लिए ₹502.43 करोड़ का स्टैंडअलोन शुद्ध लाभ दर्ज किया गया है। एक्सचेंजों को दी गई जानकारी के अनुसार, यह पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही यानी Q1FY24 में बैंक को हुए ₹342.52 करोड़ के कर पश्चात लाभ (PAT) की तुलना में 46.4 प्रतिशत अधिक है। मार्केट एक्सपर्ट का कहना है कि यस बैंक का मुनाफा बढ़ने का असर बैंक के शेयर पर देखने को मिल सकता है। शेयर में तेजी दर्ज की जा सकती है। पिछले एक साल में बैंक के शेयर ने अपने निवेशकों को 40 फीसदी से अधिक का रिटर्न दिया है। बैंक को Q1FY25 में लाभ और घाटा बैंक की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही यानी Q1FY25 में ब्याज से ₹7,719.15 करोड़ की कमाई हुई जो जो Q1FY24 में ₹6,443.22 करोड़ से 19 प्रतिशत अधिक है। ऋणदाताओं की स्टैंडअलोन शुद्ध ब्याज आय (NII) पिछले वर्ष की समान अवधि में ₹2,000 करोड़ की तुलना में साल दर साल 12.2 प्रतिशत बढ़कर ₹2,243.9 करोड़ हो गई। हालांकि, एनपीए में कोई कमी नहीं आई है। Q1FY25 में यस बैंक का सकल NPA Q4FY24 में 1.7 प्रतिशत की तुलना में 1.7 प्रतिशत था, और शुद्ध NPA 0.6 प्रतिशत की तुलना में 0.5 प्रतिशत था। Q1FY25 में, यस बैंक की शुद्ध ब्याज आय (NII) साल दर साल 12.20 प्रतिशत बढ़कर ₹2,244 करोड़ हो गई। तिमाही आधार पर यस बैंक की एनआईआई में 4.20 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यस बैंक की वित्तीय स्थिति हाल ही में समाप्त जून 2024 तिमाही में, यस बैंक ने ₹2,29,565 करोड़ का शुद्ध अग्रिम दर्ज किया, जिसमें वर्ष-दर-वर्ष 14.70 प्रतिशत की वृद्धि और तिमाही-दर-तिमाही 0.80 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। अप्रैल से जून 2024 तक निजी ऋणदाता की कुल जमा राशि 20.80 प्रतिशत बढ़कर ₹2,65,072 करोड़ हो गई। Q1FY25 में यस बैंक का CASA अनुपात 30.80 प्रतिशत रहा, जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 29.40 प्रतिशत और पिछली तिमाही में 30.90 प्रतिशत था। रिजल्ट पर मैनेजमेंट की प्रतिक्रिया रिजल्ट और वित्तीय प्रदर्शनों पर टिप्पणी करते हुए, यस बैंक के प्रबंध निदेशक और सीईओ प्रशांत कुमार ने कहा कि बैंक ने वित्तीय वर्ष की शुरुआत मजबूत आधार पर की है, जिसमें पहली तिमाही के मौसमी होने और शून्य पीएसएल की कमी के बावजूद RoA 0.5% पर तिमाही-दर-तिमाही बना हुआ है। बैंक परिचालन लागत वृद्धि को 8.0% साल-दर-साल (पीएसएलसी को छोड़कर) पर रखने में सक्षम रहा है। साथ ही, समाधान की गति मजबूत बनी हुई है, जिससे शुद्ध ऋण लागत कम हो रही है, जो RoA विस्तार में भी सहायता कर रही है। Latest Business News डिस्क्लेमरः यह Live India News की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. Live India News की टीम ने संपादित नहीं किया है Source link

Gold Price Today : सस्ता हो गया सोना, चांदी में भी जबरदस्त गिरावट, जानिए क्या रह गये हैं दाम

Photo:PEXELS सोने चांदी का भाव Gold Price Today on 19th July 2024 : आभूषण विक्रेताओं की कमजोर मांग के बीच राष्ट्रीय राजधानी के सर्राफा बाजार में शुक्रवार को सोना 750 रुपये की गिरावट के साथ 75,650 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ। इसके साथ सोने में पिछले छह कारोबारी सत्रों से जारी तेजी पर विराम लग गया। अखिल भारतीय सर्राफा संघ ने यह जानकारी दी। इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोना 76,400 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। इस बीच, 99.5 प्रतिशत शुद्धता वाला सोना 800 रुपये घटकर 75,300 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहा। गुरुवार को यह 76,100 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी का हाजिर भाव चांदी की कीमत भी 1,000 रुपये टूटकर 93,000 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही। पिछले कारोबारी सत्र में 94,000 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही थी। सूत्रों ने सोने की कीमतों में गिरावट का कारण वैश्विक बाजारों में कमजोर रुख तथा देश में आभूषण विक्रेताओं की मांग में आई गिरावट को बताया। सोने-चांदी का वैश्विक भाव विदेशी बाजार कॉमेक्स में सोना शुक्रवार को लगातार तीसरे सत्र में गिरावट के साथ कारोबार कर रहा था, जो चार महीने के निचले स्तर से डॉलर में आये सुधार और अमेरिकी 10-वर्षीय बांड यील्ड में वृद्धि के कारण दबाव में था।’’ कोटक सिक्योरिटीज में कमोडिटी रिसर्च की एवीपी (सहायक उपाध्यक्ष) कायनात चैनवाला ने कहा, ‘‘चीन के साथ टैरिफ युद्ध और अन्य राजनीतिक और भू-राजनीतिक चुनौतियों को लेकर चिंताओं के बीच निवेशकों की सर्वकालिक उच्च स्तर के पास मुनाफावसूली मूल्यवान धातु की कीमत को प्रभावित किया।’’ इसके अतिरिक्त, न्यूयॉर्क में चांदी भी गिरावट के साथ 29.32 डॉलर प्रति औंस रही। सोने-चांदी का वायदा भाव एमसीएक्स एक्सचेज पर शुक्रवार शाम 5 अगस्त 2024 की डिलीवरी वाला सोना 1.50 फीसदी या 1115 रुपये की गिरावट के साथ 73,040 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेड करता दिखाई दिया। वहीं, 5 सितंबर 2024 की डिलीवरी वाली चांदी इस समय 2.19 फीसदी या 2008 रुपये की बड़ी गिरावट के साथ 89,764 रुपये प्रति किलोग्राम पर ट्रेड करती दिखी। Latest Business News डिस्क्लेमरः यह Live India News की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. Live India News की टीम ने संपादित नहीं किया है Source link

Verified by MonsterInsights