30 जनवरी 1948 का वो दिन...जब मौत के कुहासे ने शाम में ही पूरे देश को स्याह कर दिया

30 जनवरी 1948 की शाम को नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की जान ले ली। विडम्बना देखिए कि अहिंसा को अपना सबसे बड़ा हथियार बनाकर अंग्रेजों को देश से बाहर का रास्ता दिखाने वाले महात्मा गांधी खुद हिंसा का शिकार हुए।

from India TV Hindi: india Feed https://ift.tt/3j0yv7v
via liveindia

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां