परेड के बाद लालकिले पर खड़ी झांकियों को दंगाइयों ने तोड़ डाला, ‘कोविड-19 वैक्सीन’ से लेकर ‘वोकल फॉर लोकल’ तक कुछ नहीं छोड़ा

26 जनवरी को दिल्ली में जो हुआ वो गणतंत्र के 72 साल के इतिहास में कभी नहीं हुआ। देश की शान के प्रतीक लाल किले पर दंगाइयों ने जो हिंसा और तोड़फोड़ की। वो लोकतंत्र का अपमान और संविधान पर हमला है।

from India TV Hindi: india Feed https://ift.tt/3oqUwgN
via liveindia

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां